एसी में नहीं तो स्लीपर में करें सफर

– एसी टिकट कंफर्म न होने पर स्लीपर में दिया जाएगा पैसेंजर को स्पेस

– 15 जुलाई से देश भर की 100 ट्रेनों से होगी योजना की शुरुआत

– रीवांचल एक्सप्रेस में पायलट प्रोजेक्ट की सफलता के बाद रेलवे ने किया फैसला

Kanpur : रेलवे ने एक बार पैसेंजर्स की मजबूरी का फायदा उठाकर अपनी तिजोरी भरने का प्लान बनाया है. रेलवे की नई सुविधा के तहत अगर आपने एसी कोच में वेटिंग टिकट लिया है और वो कंफर्म नहीं होता तो आपको जर्नी कैंसिल करने की जरूरत नहीं है. रेलवे आपको उससे निचले दर्जे के कोच में सीट का ऑप्शन मिलेगा. लेकिन दोनों दर्जे के किराए में अंतर को न ही एडजस्ट किया जाएगा और ना ही वापस. यह सुविधा ऐसे यात्रियों को ध्यान में रखते हुए तैयार की गई है, जिनके लिए यात्रा अहम होती है न कि कोच. यानि मजबूरी में वो किसी भी दर्जे के कोच में यात्रा कर सकते हैं. यह सुविधा सिर्फ एसी कोचों में रिजर्वेशन के दौरान यात्रियों को 15 जुलाई से मिलेगी.

28_06_2015-ac_coachएसी नहीं तो स्लीपर

इस नई सुविधा के तहत अगर किसी यात्री ने फ‌र्स्ट एसी का वेटिंग टिकट लिया है तो सीट कंफर्म न होने की स्थिति में उसे सेकंड एसी, सेकंड एसी वाले को थर्ड एसी और थर्ड एसी में वेटिंग टिकट मिलने पर उसे स्लीपर कोच में बर्थ उपलब्ध कराने का ऑप्शन मिलेगा. कई बार बेहद जरूरी काम होने पर पैसेंजर्स किसी भी कोच की यात्रा कर लेते हैं. रेलवे ने इसी मजबूरी का फायदा उठाया है. रिजर्वेशन कराते समय यह ऑप्शन फॉर्म पर मिलेगा. वहीं ऑनलाइन बुकिंग कराते समय पैसेंजर डीटेल भरने पर ऑप्शन मिलेगा. लेकिन लोअर श्रेणी में सीट मिलने पर भी रेलवे किसी प्रकार का किराया एडजेस्ट या वापस करने के लिए बाध्य नहीं होगा बस आपको उस ट्रेन में सीट मिल जाएगी.

15 जुलाई से मिलेगी सुविधा

लोअर श्रेणी में टिकट कंफर्मेशन की सुविधा रेलवे 15 जुलाई से 100 ट्रेनों में शुरू करेगा, जिसमें उत्तर, उत्तर, मध्य रेलवे और पूर्वोत्तर रेलवे की एक दर्जनों ट्रेनें शामिल होंगी. बाद में इसका दायरा और बढ़ाया जाएगा. अभी प्रायोगिक तौर पर रेलवे ने रीवंाचल एक्सप्रेस में यह सुविधा शुरू की है. लोअर कैटेगरी की सीट का ऑप्शन नहीं भरने पर पैसेंजर के वेटिंग टिकट के कैंसिलेशन के चार्जेस पहले की तरह की रहेंगे.

ऑटो अपग्रेडेशन की सुविधा

लोअर बर्थ में सीट कंफर्मेशन की सुविधा शुरू होने से ऑटो अपग्रेडेशन सिस्टम पर कोई असर नहीं पड़ेगा. पीआरएस से रिजर्वेशन कराते समय सीट के ऑटो अपग्रेडेशन के विकल्प के साथ ही यात्री को लोअर बर्थ कंफर्मेशन का विकल्प भी मिलेगा. चार्टिग के दौरान अगर हर श्रेणी में वेटिंग ज्यादा है तो लोअर बर्थ कंफर्मेशन का ऑप्शन भरने वालों को प्राथमिकता दी जाएगी. जबकि जिन ट्रेनों में चार्टिग के वेटिंग नहीं होगी, वहीं पर आटो अपग्रेडेशन किया जाएगा.

15 जुलाई से जो पैसेंजर्स के लिए नई सुविधा शुरू की जा रही है, इसमें पैसेंजर्स को रिजर्वेशन कराते समय लोअर क्लास में सीट कंफर्मेशन का विकल्प भी मिलेगा. नॉर्दन रेलवे की कई ट्रेनों में ये सुविधा शुरू होगी.

– एएस नेगी, पीआरओ, नॉर्दन रेलवे

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s