खुलकर बोले पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, नोटबंदी पर हिला दी संसद


आखिरकार पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने नोट बंदी के
मुद्दे पर आज अपनी चुप्पी तोड़ ही दी। नोटबंदी पर संसद में मचे संग्राम के
बीच अभी अभी देश के पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने मामले पर अपने विचार रखे
हैं।

आखिरकार पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने नोट बंदी के मुद्दे पर आज अपनी चुप्पी तोड़ ही दी। नोटबंदी पर संसद में मचे संग्राम के बीच अभी अभी देश के पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने मामले पर अपने विचार रखे हैं।मनमोहन ने कहा कि हम नोटबंदी के खिलाफ नहीं है। लेकिन इससे आम आदमी को तकलीफ हुई है। उन्होंने कहा कि हम सरकार के रूख से पूरी तरह असहमत हैं।मनमोहन सिंह ने कहा कि नोटबंदी की वजह से अब तक 60-65 लोगों की मौत हो चुकी हैं। उनकी जिम्मेदारी कौन लेगा। पूर्व पीएम ने सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि नोटबंदी की वजह से करंसी सिस्टम से लोगों का भरोसा उठ गया है।

Image result for नोट बंदी पर विपक्षीदेश की अर्थव्यवस्था को भी काफी नुकसान पहुंचा है। नोटबैन की वजह से देश में छोटे उद्योग खत्म हो गए हैं। उन्होंने कहा कि नोटबंदी को लागू करने में पीएमओ पूरी तरह से फेल रहा है।

इससे पहले बुधवार को लोकसभा में नोट बंदी पर सरकार और विपक्ष के बीच जारी गतिरोध के दूर होने की थोड़ी संभावना तब नजर आई जब प्रश्नकाल के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सदन में दिखे। हालांकि कार्यवाही शुरू होते ही विपक्षी सदस्य कार्यस्थगन प्रस्ताव स्वीकार करने की मांग को ले कर वेल में पहुंच कर नारेबाजी करने लगे।

d9341

इस दौरान पीएम मोदी चुपचाप हंगामे को देखते सुनते रहे और करीब 10 मिनट तक सदन में रहने के बाद बाहर निकल गए। हंगामे और नारेबाजी के बीच ही सूचना प्रसारण मंत्री वैंकेया नायडू की विपक्ष से तीखी नोकझोंक हुई।

प्रधानमंत्री कार्यवाही शुरू होने से कुछ पल पहले ही सदन में पहुंचे। इसी बीच संसद भवन परिसर में नोट बंदी के फैसले के खिलाफ एकजुट प्रदर्शन करने वाले विपक्षी सदस्यों ने कार्यवाही शुरू होते ही हंगामा करना शुरू कर दिया। विपक्ष के कई नेताओं ने तत्काल प्रधानमंत्री के बयान की मांग की। मगर प्रधानमंत्री चुपचाप बैठे रहे और हंगामे का नजारा लेते रहे।

 

Advertisements