दिवाली पर कानपुर की हवा हुई दमघोटू, तापमान में भी बढ़ोतरी

दीपावली की खुशियों को बढ़ाने वाले पटाखों ने शहर की फिजा को जहरीला कर दिया। दमघोटू हवा में घुले पीएम स्तर के साथ नाइट्रोजन डाइऑक्साइड, कार्बन मोनोऑक्साइड और सल्फर डाइऑक्साइड गैसें सीमाएं लांघ गई। इस बार कम पटाखे छोड़े गए। इस कारण पिछले वर्ष की दीपावली के मुकाबले वायु प्रदूषण अपेक्षाकृत कम रहा। उत्तर प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी कुलदीप मिश्रा का कहना है कि शहर में कुछ स्थानों पर दीपावली के दौरान आंकड़ें जुटाए गए हैं। दो-तीन दिन बाद ही इसका आकलन हो सकेगा। वैसे दीपावली में आतिशबाजी से हवा की सेहत खराब होना स्वाभाविक है। पर आंकड़ें बाद में ही सार्वजनिक हो सकेंगे।

दीपावली यानी गुरुवार से पटाखे छूटने शुरू हुई जो शनिवार तक जारी रहे। गुरुवार और शुक्रवार को शहर की हवा खतरनाक स्तर पर रही लेकिन शनिवार से इसका असर कम होने लगा। बादलों के कारण जितनी तेजी से प्रभाव खत्म होना चाहिए था वह नहीं हो हुआ। शुक्रवार को शहर के कुछ हिस्सों में हुई बारिश के कारण पटाखों का प्रभाव कुछ हद तक कम हुआ।

 वर्ष 2016 के मुकाबले सुधार : वर्ष 2016 में दीपावली अक्तूबर माह में हुई थी। इस माह का औसत प्रदूषण अधिक था। आठ स्थानों पर तब इसकी मॉनीटरिंग की गई थी। इसमें रामादेवी क्षेत्र में पीएम स्तर 357.3 पहुंच गया था। हालांकि पनकी, जरीब चौकी और किदवई नगर में 261.1 से अधिकतम 269.9 रहा था। इस वर्ष सभी क्षेत्रों में सुधार आया है। शहर के बीच जवाहर नगर में सीपीसीबी के आंकड़ों के अनुसार अधिकतम 220 पीएम रहा। इसी तरह नाइट्रोजन डाइऑक्साइड का स्तर 2016 में किदवई नगर में 50.9 माइक्रो ग्राम प्रति घन मीटर और सल्फर डाइऑक्साइड जरीब चौकी में अधिकतम 8.4 माइक्रो ग्राम प्रति घन मीटर रहा था। इस बार इसमें काफी कमी आई है।
इस बार कई बार लांघी सीमा : पीएम का स्तर केवल 60 होना चाहिए लेकिन 19 से 21 अक्तूबर तक यह 200 के नीचे नहीं आई। 19 अक्तूबर की रात इसका स्तर जवाहर नगर में 212.20 पहुंच गया। रामादेवी, शास्त्रीनगर, पनकी और जरीब चौकी में यह 240 के ऊपर रहा। इसी तरह कार्बन मोनोऑक्साइड अधिकतम 4.00 मिग्री प्रति घन मीटर होना चाहिए। पर यह दीपावली की रात 4.74 पर पहुंच गई। इसका स्तर एक बार रात एक बार दिन में तेजी से बढ़ा। सल्फर डाइऑक्साइड का स्तर 17.99 तक पहुंच गया।
जहरीली गैसें घोटती हैं दम
यदि पीएम का स्तर बढ़ता है तो यह श्वांस समेत अनेक रोग पैदा करता है। पीएम का स्तर ज्यादातर समय सामान्य पीएम से अधिक होने के कारण शहर की सेहत को कमजोर कर रहा है। खासतौर से पटाखों के कारण इसका अधिक प्रभाव पड़ा। अन्य गैसों के कारण लोगों को आंखों में जलन शुरू हुई है। डॉक्टरों का कहना है कि आंखों को पानी से लगातार धोते रहें। यदि जलन अधिक हो तो चिकित्सक से परामर्श करें। इन्हीं गैसों के कारण श्वांस रोगियों को भी सांस लेने में दिक्कतों का सामना करना पड़ा। इसका असर चर्म पर भी पड़ता है लेकिन कुछ समय के बाद।
पटाखों ने बढ़ाई रात-दिन की गर्मी
दीपावली पर आतिशबाजी से बढ़े वायु प्रदूषण के कारण दिन और रात के तापमान में वृद्धि हुई है। वैसे आसमान पर बादल रहने का भी असर पड़ा है लेकिन मुख्य कारण इनर्ट गैसों के ऊर्जा का अवशोषण करने और फिर उसे जमीन पर भेजने से गर्मी बढ़ी है। मंगलवार या बुधवार से पछुवा हवाओं के चलने से दिन और रात का तापमान गिरेगा। मौसम विज्ञानी डॉ. अनिरुद्ध दुबे ने बताया कि दिन और रात के तापमान में वृद्धि हो रही है। आतिशबाजी से कार्बन मोनोऑक्साइड, कार्बन डाइऑक्साइड और सल्फर डाइऑक्साइड आदि गैसें निकलती हैं जो ऊर्जा को सोख लेती हैं। फिर इसे जमीन की ओर फेकती हैं जिससे तापमान बढ़ता है। अभी हल्के बादल भी है जिससे तापमान प्रभावित हो रहा है। मंगलवार तक आसमान साफ हो जाएगा। पहाड़ों पर बर्फबारी शुरू हो चुकी है। हवा की दिशा बदलने से दिन-रात में तापमान गिरने से राहत मिलेगी।
यह रहा तापमान का हाल
अक्तूबर        अधिककम        न्यूनतम
17            35.0            17.8
18            34.8            16.6
19            35.6            20.0
20            35.2            24.6
21            36.2            22.0
सीपीसीबी के अनुसार यह रहा प्रदूषण का स्तर
19 अक्तूबर को सुबह से दोपहर 03:25 बजे
नाइट्रोजन डाइऑक्साइड : 125.02 (मानक 80)
पार्टीकुलेट मैटर (पीएम) : 210.16 (60)
19/20 अक्तूबर की रात 12:25 बजे
नाइट्रोजन डाइऑक्साइड :  136.26 (मानक 80)
पार्टीकुलेट मैटर (पीएम) : 212.20 (मानक 60)
कार्बन मोनोऑक्साइड : 4.07 (मानक 4.00)
21 अक्तूबर की सुबह से दोपहर 3.25 बजे
नाइट्रोजन डाइऑक्साइड : 64.59(मानक 80)
पार्टीकुलेट मैटर (पीएम) : 129.98 (60)

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.